Wednesday, June 25, 2008

छाप तिलक सब छीन ली रे मोसे नैना मीलाके

अपनी छाप बनके जो मैं पी के पास गई- २
जब छाप देखी पिहू के सो मैं अपनी भूल गई
हो.....
छाप तिलक सब छीन ली रे मोसे नैना मीलाके -३
नैना मिला के मोसे नैना मिलाके
नैना मिला के मोसे नैना मिलाके
नैना मिला के... छाप तिलक छीन ली रे

ये रे सखी मैं तोसे कहू मैं तोसे कहू
मैं जो गई थी पनिया भरन को....
पनिया भरन को, पनिया भरन को
छीन झपट मोरी मटकी पटकी
छीन झपट मोरी मटकी पटकी रे मोसे नैना मिलके
छाप तिलक सब.......

बल बल जाऊं मैं
बल बल जाऊं तोरे रंगरेजवा
बल बल ....बल बल तोरे रंगरेजवा
अपनी सी.. अपनी सी..२
अपनी सी रंग लीनी रे मोसे नैना मिलके
छाप तिलक ....

ये रे सखी मैं तोसे कहू मैं
हरी हरी चुरियाँ हरी चुरियाँ
गोरी गोरी बहियाँ २
हरी हरी चुरियाँ गोरी बिया
बहियाँ पकड हर लीनी -2
बहियाँ पकड हर लीनी रे मोसे नैना मिलके

छाप तिलक सब छीन ली रे मोसे नैना मिलके

0 comments: